हिंदी कविता 

वो हमें क्या समझेंगे, जो खुद नासमझ हो वो क्या खाक मुसाफिरों को पहचानेगे, जो खुद बंद दरवाज़ो के पीछे छुपते हो – सार्थक  Advertisements